top of page

आइए, मिसकैरेज के बारे में बात करें


गर्भावस्था के दौरान बच्चे को खो देने या अपने आप गर्भपात हो जाने को मिसकैरेज कहा जाता है। दस में से एक महिला को अपने जीवनकाल के दौरान मिसकैरेज का सामना करना पड़ता है। यह काफ़ी आम है, और मिसकैरेज के बारे में ग़लत धारणाओं की वजह से महिला और उसके साथी को अकेलापन महसूस हो सकता है या उन्हें लग सकता है कि यह उनकी ग़लती के कारण हुआ है। उदाहरण के लिए, गर्भावस्था के दौरान व्यायाम, संभोग, या भारी वस्तुओं को उठाने से मिसकैरेज नहीं होता है।


सबसे ज़रूरी बात यह है कि मिसकैरेज कभी भी महिला की ग़लती नहीं होती है। सच तो यह है कि मिसकैरेज के कई कारण हो सकते हैं। सबसे आम कारण है आनुवंशिक (जेनेटिक) समस्याएं, जो बच्चे के सामान्य विकास में बाधा डालती हैं। लेकिन, जीन से संबंधित समस्याएं आमतौर पर बच्चे के बढ़ने के दौरान संयोग से होती हैं और माँ के इन पर कोई नियंत्रण नहीं होता है। यही वजह है कि मिसकैरेज या अपने आप होने वाले गर्भपात को रोकने के लिए आप बहुत कुछ नहीं कर सकती हैं। लेकिन कुछ ऐसी चीज़ें हैं जो आप अपने और अपने बच्चे की देखभाल करने के लिए ज़रूर कर सकती हैं:


  1. प्रसव पूर्व देखभाल मुलाक़ातों (प्री-नेटल केयर) के लिए ज़रूर जाएं

  2. मिसकैरेज का ख़तरा बढ़ाने वाले कारणों से दूर रहें, जैसे धूम्रपान, शराब और अवैध नशीले पदार्थों का इस्तेमाल

  3. शुगर और हाई ब्लड प्रेशर जैसी लंबी चलने वाली स्वास्थ्य समस्याओं पर नियंत्रण रखें

  4. प्रसव पूर्व विटामिन (प्री-नेटल विटामिन) ज़रूर इस्तेमाल करें


80% मिसकैरेज गर्भावस्था के पहले 3 महीनों में होते हैं। ख़ून बहना, ऐंठन और पेट दर्द मिसकैरेज के सामान्य लक्षण हैं, लेकिन कभी-कभी हो सकता है कि कोई भी लक्षण न हों। इसलिए, अपने डॉक्टर को गर्भावस्था के असामान्य लक्षणों के बारे में फ़ौरन ज़रूर बताएं।


मिसकैरेज के लक्षण:

  1. यौनि से ख़ून बहना

  2. पेट में ऐंठन

  3. योनि से पानी जैसा पदार्थ या ऊतकों का रिसाव होना


ज़रूरी नहीं है कि अगर आपको ये लक्षण हैं, तो आपका बच्चा गिर गया है। इसलिए, अपने डॉक्टर के पास जाएं ताकि वे जाँच करके आपको बता सकें कि क्या आपके साथ जो हो रहा है वह सामान्य है या नहीं।


नीचे बताए गए जोखिम कारक भी मिसकैरेज की संभावना को बढ़ा सकते हैं:

  1. 35 से ज़्यादा उम्र

  2. अतीत में 2 या उससे ज़्यादा मिसकैरेज होना

  3. गर्भाशय (यूट्रस) या गर्भाशय ग्रीवा (सर्विक्स) की समस्याएं

  4. धूम्रपान, शराब या नशीले पदार्थों का इस्तेमाल

  5. वज़न का सामान्य से कम या ज़्यादा होना


मिसकैरेज होना भावनात्मक और मानसिक रूप से मुश्किल होता है। इसके बाद, अफ़सोस और उदासी स्वाभाविक है। लेकिन, आप अकेली नहीं हैं। अगर आपका बच्चा गिर गया है, तो अपने परिवार वालों या क़रीबी दोस्तों के साथ अपना ग़म बाँटें। समान अनुभव से गुज़र रहीं अन्य महिलाओं के सहायता समूहों से संपर्क करके भी प्रोत्साहन और सहारा मिल सकता है। आपके डॉक्टर या नर्स भी आपको अपने आप को संभालने के तरीक़े और इलाज के विकल्प बता सकते हैं।


ख़ुशक़िस्मती से, जिन महिलाओं को मिसकैरेज होता है, वे ज़्यादातर आगे स्वस्थ गर्भावस्था से गुज़र सकती हैं।


 

क्या आपके यौन संबंधों, यौन-संचारित संक्रमण (एस.टी.आई.) और गर्भनिरोधकों के बारे में कोई सवाल हैं? याद रखें कि आप निवि से व्हाट्सऐप से कभी भी चैट कर सकती हैं। ये पूरी तरह प्राइवेट, गोपनीय, और मुफ़्त है!



संसाधन


Comments


bottom of page