top of page

परिवार नियोजन 101: प्राकृतिक तरीक़े

परिवार नियोजन 101


हम समझते हैं कि परिवार नियोजन का सही तरीक़ा चुनना आपको असमंजस में डाल सकता है। आपके सामने चुनने के लिए बहुत सारे तरीक़े हैं, और ये सभी एक ही चीज़ करने में मदद करते हैं — गर्भावस्था की संभावना को कम करना — लेकिन बहुत अलग-अलग ढंग से! विभिन्न तरीक़ों के बारे में जानने के लिए और आपके, आपके साथी और आपकी लाइफ़ स्टाइल के लिए सही तरीक़ा चुनने में आपकी मदद करने के लिए निवि मौजूद है। इसलिए हमने अलग-अलग तरह के गर्भनिरोधक तरीक़ों के बारे में ब्लॉग पोस्ट की एक सीरीज़ तैयार की है, जिसके ज़रिए आप उनके बारे में जान सकते हैं और ये भी पता कर सकते हैं कि उनका उपयोग कब किया जाता है: तत्काल, अल्पकालिक, दीर्घकालिक, स्थायी और प्राकृतिक।


तो, क्या आप तैयार हैं यह जानने के लिए कि कौन-कौन से तरीक़े हैं? आगे पढ़ते रहिए!



प्राकृतिक तरीक़े


अगर आपको गर्भनिरोधक तरीक़ों से डर लगता है या आप नहीं चाहतीं कि किसी को यह पता लगे कि आप गर्भावस्था से बचने की कोशिश कर रही हैं, या अगर आपके पास उन तरीक़ों तक पहुँच हासिल नहीं है, तो कोई बात नहीं। आधुनिक, मेडिकल तरीक़ों के बिना भी अनचाहे गर्भ से बचने के रास्ते हैं। ये इतने कारगर नहीं होते, लेकिन जोखिम कम करने में आपकी मदद ज़रूर करेंगे।


निकासी या विद्ड्रॉअल तरीक़ा

(यानी पुल-आउट मेथड)


सभी प्राकृतिक तरीक़ों में से, निकासी या विद्ड्रॉअल मेथड, सबसे आसान है। आप इसके नाम से ही इसका मतलब समझ जाएंगी! इसे विद्ड्रॉअल मेथड इसलिए कहते हैं क्योंकि यौन संबंध के दौरान पुरुष यही करता है, यानी चरमोत्कर्ष से पहले ही वह महिला की योनि से बाहर निकल जाता है, या पुल-आउट कर लेता है। दूसरे शब्दों में, वह आपके अंदर नहीं बल्कि कहीं और “समापन” करता है। ये आपके ऊपर हो सकता है, चादर पर हो सकता है, या टिशू में हो सकता है—कहीं भी, बस आपकी योनि के आसपास नहीं।


फ़ायदे:

  • बाक़ी प्राकृतिक तरीक़ों की तरह, यह तब सहायक होता है जब आप अपने साथी या परिवार के दबाव के कारण आधुनिक, मेडिकल तरीक़े नहीं इस्तेमाल कर सकती हैं, या फिर क्लिनिक या स्वास्थ्य देखभाल वाले के पास जाना मुश्किल होता है।

  • बाक़ी प्राकृतिक तरीक़ों की तुलना में यह समझने और करने में आसान है।

  • यह कभी भी किया जा सकता है—चाहे आप किसी अन्य गर्भनिरोधक तरीक़े का उपयोग कर रही हैं या नहीं।


कमियां:

  • कभी-कभी ऐसा करने के बाद, साफ़-सफ़ाई करने की ज़रूरत पड़ती है।

  • इसके लिए आपको पूरी तरह अपने साथी पर भरोसा करना होता है (नियंत्रण पूरी तरह से पुरुष साथी के पास होता है)

  • यह ज़रूरी नहीं है कि सिर्फ़ चरमोत्कर्ष के दौरान ही लिंग से शुक्राणु जारी हो, ऐसा यौन संबंध के दौरान भी हो सकता है। इसलिए, इसमें भारी जोखिम है; और आधुनिक, मेडिकल तरीक़ों जितना कारगर नहीं है।

  • यह दोनों साथियों को यौन-संचारित संक्रमण (एस.टी.आई.) से नहीं बचाता है।


रिदम मेथड

(यानी कैलेंडर मेथड)


अगर आप महिला हैं और आपको नियमित तौर पर पीरियड्स होते हैं, तो महीने के कुछ ऐसे दिन हैं जब गर्भवती होने की आपकी संभावना कम है। रिदम मेथड, या कैलेंडर मेथड, इन दिनों का फ़ायदा उठाता है, और आपको सिर्फ़ और सिर्फ़ इन्हीं दिनों में यौन संबंध बनाने की सलाह देता है। बिल्कुल सही—आपको अपने यौन संबंधों के दिन तय करने होंगे! अगर दिन 1 को आपके पीरियड्स शुरू होते हैं, तो रिदम मेथड का कहना है कि आप दिन 1-7 और 20+ को यौन संबंध बना सकती हैं (जब आपके फ़र्टाइल होने की संभावना कम होती है और इसलिए आपके गर्भवती होने की संभावना भी कम होती है), और दिन 8 से 19 (जब आपके फ़र्टाइल होने की संभावना ज़्यादा होती है) को यौन संबंध से बचना चाहिए।


फ़ायदे:

  • बाक़ी प्राकृतिक तरीक़ों की तरह, यह तब सहायक होता है जब आप अपने साथी या परिवार के दबाव के कारण आधुनिक, मेडिकल तरीक़े नहीं इस्तेमाल कर सकती हैं, या फिर क्लिनिक या स्वास्थ्य देखभाल वाले के पास जाना मुश्किल होता है।

  • यह कभी भी किया जा सकता है—चाहे आप किसी अन्य गर्भनिरोधक तरीक़े का उपयोग कर रही हैं या नहीं।


कमियाँ:

  • हर महिला अलग होती है! जिसका मतलब है कि हर महिला का पीरियड और फ़र्टाइल दिन भी अलग होते हैं। तो, अगर किसी एक महिला के दिन 8-19 को गर्भवती होने की संभावना कम है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि दिन 8-19 को आप गर्भवती नहीं हो सकतीं।

  • इसमें जोखिम है और आधुनिक, मेडिकल तरीक़ों जितना कारगर नहीं है।

  • यह दोनों साथियों को यौन-संचारित संक्रमण (एस.टी.आई.) से नहीं बचाता है।


लैक्टेशनल एमेनोरिया

(यानी स्तनपान)


जिन महिलाओं ने पिछले 6 महीनों में बच्चे को जन्म दिया है और फिर हर दिन कम से कम 4 घंटे और हर रात कम से कम 6 घंटे स्तनपान किया है, और अपने बच्चे को स्तन के दूध के अलावा कुछ और नहीं देती हैं, वे ओव्यूलेट नहीं करतीं। ओव्यूलेशन के दौरान अंडाशय (ओवरी) एक अंडा रीलिज़ करता है, और पुरुष का शुक्राणु उसे निषेचित (फ़र्टिलाइज़) कर सकता है; इसका मतलब है कि अगर कोई महिला ओव्यूलेट नहीं करती है, तो वह गर्भवती नहीं हो सकती। यह जानना ज़रूरी है कि जो महिला ओव्यूलेट नहीं कर रही, उसे पीरियड भी नहीं आएगा। तो, अगर आपको जन्म देने के बाद पीरियड आया, चाहे सिर्फ़ दो दिनों के लिए ही सही, तो आप शायद ऑव्यूलेट भी कर रही हैं (और इसलिए गर्भवती हो सकती हैं)।


फ़ायदे:

  • अगर इसे बिल्कुल सही ढंग से किया जाए, तो यह आधुनिक, मेडिकल तरीक़ों जितना अच्छा काम कर सकता है।

  • यह करने में बहुत आसान है (“क्या आपने अभी-अभी शिशु को जन्म दिया है? तो बस स्तनपान करें!”)

  • बाक़ी प्राकृतिक तरीक़ों की तरह, यह तब सहायक होता है जब आप अपने साथी या परिवार के दबाव के कारण आधुनिक, मेडिकल तरीक़े नहीं इस्तेमाल कर सकती हैं, या फिर क्लिनिक या स्वास्थ्य देखभाल वाले के पास जाना मुश्किल होता है।

  • यह कभी भी किया जा सकता है—चाहे आप किसी अन्य गर्भनिरोधक तरीक़े का उपयोग कर रही हैं या नहीं।


कमियाँ:

  • इसका इस्तेमाल सिर्फ़ शिशु जीवन के पहले 6 महीनों के दौरान किया जा सकता है।

  • महिलाएं जन्म देने के 1 महीने बाद ही गर्भवती हो सकती हैं, चाहे वे इस तरीक़े का इस्तेमाल कर रही हों या नहीं!

  • इसके लिए बहुत सारा स्तनपान करना पड़ता है—जो हर महिला नहीं कर पाती (क्योंकि उन्हें इतना दूध नहीं उतरता, उनके शिशु पीने में मुश्किल होती है, या उनकी नौकरी या घरेलु ज़िम्मेदारियों की वजह से वे ऐसा नहीं कर पातीं)।

  • जो महिलाएं अपने बच्चों को फ़ॉर्मूला देती हैं (स्तनपान के साथ या बिना स्तनपान), उनके लिए यह तरीक़ा भरोसेमंद गर्भनिरोधक साबित नहीं होता है।

  • इसमें जोखिम है और आधुनिक, मेडिकल तरीक़ों जितना कारगर नहीं है।

  • यह दोनों साथियों को यौन-संचारित संक्रमण (एस.टी.आई.) से नहीं बचाता है।


 

क्या आप जानना चाहती हैं कि आपके लिए कौन-सा तरीक़ा सही है, और आप इसे कहाँ हासिल कर सकती हैं? क्या यौन संबंधों, एस.टी.आई. और गर्भनिरोध के बारे में आपके कोई और सवाल हैं? याद रखें आप निवि से कभी भी व्हॉट्सऐप और फ़ेसबुक मेसेंजर के ज़रिए चैट कर सकती हैं। यह प्राइवेट, गोपनीय, और बिल्कुल मुफ़्त है!


Комментарии


bottom of page